50+ Kumar Vishwas Shayari, Kumar Vishwas poem, Images

Dr. Kumar Vishwas is a Hindi language Shayar and poet. Dr. Kumar Vishwas is an Indian and his birthplace is Ghaziabad on 10th February 1970. Kumar Vishwas is a famous writer and poet in Hindi languages. Dr. Kumar Vishwas that who represents India in foreign countries in Hindi poems and Kumar Vishwas Kavita likes them all over India and the foreign country. Kumar Vishwas poem, Kumar Vishwas Shayari many peoples like Kumar Vishwas Shayari koi Deewana kehta hai. So Readers if you like Kumar Vishwas poetry then please share this article on Facebook and WhatsApp and other social platforms.

Kumar Vishwas Shayari, Kumar Vishwas poem – koi deewana kehta hai in Hindi

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल
समझता है !
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल
समझता है !!
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर
कैसी है !
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल
समझता है !!

Koee Deevaana Kahata Hai, Koee Paagal
Samajhata Hai !
Magar Dharatee Kee Bechainee Ko Bas Baadal
Samajhata Hai !!
Main Tujhase Door Kaisa Hoon , Too Mujhase Door
Kaisee Hai !
Ye Tera Dil Samajhata Hai Ya Mera Dil
Samajhata Hai !!

kumar vishwas shayari
kumar vishwas shayari koi deewana kehta hai

भ्रमर कोई कुमुदुनी पर मचल बैठा
तो हंगामा!
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा
तो हंगामा!!
अभी तक डूब कर सुनते थे सब
किस्सा मोहब्बत का!
मैं किस्से को हकीक़त में बदल बैठा
तो हंगामा!!

Bhramar Koee Kumudunee Par Machal Baitha
To Hangaama!
Hamaare Dil Mein Koee Khvaab Pal Baitha
To Hangaama!!
Abhee Tak Doob Kar Sunate The Sab
Kissa Mohabbat Ka!
Main Kisse Ko Hakeeqat Mein Badal Baitha
To Hangaama!!

मैं तुम्हें ढूँढने स्वर्ग के द्वार
तक
रोज आता रहा, रोज जाता
रहा
तुम ग़ज़ल बन गई, गीत में
ढल गई
मंच से में तुम्हें गुनगुनाता
रहा

Main Tumhen Dhoondhane Svarg Ke Dvaar Tak
Roj Aata Raha, Roj Jaata Raha
Tum Gazal Ban Gaee, Geet Mein Dhal Gaee
Manch Se Mein Tumhen Gunagunaata Raha

kumar vishwas poem
kumar vishwas poem

मोहब्बत एक अहसासों की पावन
सी कहानी है !
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा
दीवानी है !!
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में
आँसू हैं !
जो तू समझे तो मोती है, जो ना
समझे तो पानी है !!

Mohabbat Ek Ahasaason Kee Paavan
See Kahaanee Hai !
Kabhee Kabira Deevaana Tha Kabhee Meera
Deevaanee Hai !!
Yahaan Sab Log Kahate Hain, Meree Aankhon Mein
Aansoo Hain !
Jo Too Samajhe To Motee Hai, Jo Na
Samajhe To Paanee Hai !!

kumar vishwas poetry
kumar vishwas shayari

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो
नही सकता !
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको
खो नही सकता !!
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना,
मगर सुन ले !
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो
नही सकता !!

Samandar Peer Ka Andar Hai, Lekin Ro
Nahee Sakata !
Yah Aansoo Pyaar Ka Motee Hai, Isako
Kho Nahee Sakata !!
Meree Chaahat Ko Dulhan Too Bana Lena,
Magar Sun Le !
Jo Mera Ho Nahee Paaya, Vo Tera Ho
Nahee Sakata !!

kumar vishwas poem
Kumar Vishwas poem

कभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो
पल तो हंगामा
कोई ख़्वाबों में आकर बस लिया दो
पल तो हंगामा
मैं उससे दूर था तो शोर था साजिश
है , साजिश है
उसे बाहों में खुलकर कस लिया दो
पल तो हंगामा

Kabhee Koee Jo Khulakar Hans Liya Do
Pal To Hangaama
Koee Khvaabon Mein Aakar Bas Liya Do
Pal To Hangaama
Main Usase Door Tha To Shor Tha Saajish
Hai , Saajish Hai
Use Baahon Mein Khulakar Kas Liya Do
Pal To Hangaama

kumar vishwas poem
kumar vishwas shayari

जिसकी धुन पर दुनिया नाचे, दिल
एक ऐसा इकतारा है,
जो हमको भी प्यारा है और, जो
तुमको भी प्यारा है.
झूम रही है सारी दुनिया, जबकि
हमारे गीतों पर,
तब कहती हो प्यार हुआ है, क्या
अहसान तुम्हारा है

Jisakee Dhun Par Duniya Naache, Dil
Ek Aisa Ikataara Hai,
Jo Hamako Bhee Pyaara Hai Aur, Jo
Tumako Bhee Pyaara Hai.
Jhoom Rahee Hai Saaree Duniya, Jabaki
Hamaare Geeton Par,
Tab Kahatee Ho Pyaar Hua Hai, Kya
Ahasaan Tumhaara Hai

kumar vishwas shayari
kumar vishwas shayari

तुम अगर नहीं आई गीत गा
न पाऊँगा
साँस साथ छोडेगी, सुर सजा
न पाऊँगा
तान भावना की है शब्द-शब्द
दर्पण है
बाँसुरी चली आओ, होंठ का
निमंत्रण है

Tum Agar Nahin Aaee Geet Ga
Na Paoonga
Saans Saath Chhodegee, Sur Saja
Na Paoonga
Taan Bhaavana Kee Hai Shabd-Shabd
Darpan Hai
Baansuree Chalee Aao, Honth Ka
Nimantran Hai

kumar vishwas shayari
kumar vishwas shayari

READ MORE SHAYARI – Rahat Indori, Rahat Indori Shayari, Rahat Indori Shayari in Hindi, Images, Quotes

kumar vishwas shayari in Hindi and English Languages

बस्ती बस्ती घोर उदासी पर्वत पर्वत
खालीपन
मन हीरा बेमोल बिक गया घिस घिस
रीता तन चंदन
इस धरती से उस अम्बर तक दो ही
चीज़ गज़ब की है
एक तो तेरा भोलापन है एक मेरा
दीवानापन||1||

Bastee Bastee Ghor Udaasee Parvat Parvat
Khaaleepan
Man Heera Bemol Bik Gaya Ghis Ghis
Reeta Tan Chandan
Is Dharatee Se Us Ambar Tak Do Hee
Cheez Gazab Kee Hai
Ek To Tera Bholaapan Hai Ek Mera
Deevaanaapan||1||

जो धरती से अम्बर जोड़े, उसका नाम
मोहब्बत है ,
जो शीशे से पत्थर तोड़े, उसका नाम
मोहब्बत है ,
कतरा कतरा सागर तक तो,जाती है
हर उमर मगर ,
बहता दरिया वापस मोड़े, उसका नाम
मोहब्बत है||2||

Jo Dharatee Se Ambar Jode, Usaka Naam
Mohabbat Hai ,
Jo Sheeshe Se Patthar Tode, Usaka Naam
Mohabbat Hai ,
Katara Katara Saagar Tak To,Jaatee Hai
Har Umar Magar ,
Bahata Dariya Vaapas Mode, Usaka Naam
Mohabbat Hai||2||

kumar vishwas shayari in Hindi kumar vishwas kavita

बहुत टूटा बहुत बिखरा थपेड़े सह नहीं
पाया
हवाओं के इशारों पर मगर मैं बह
नहीं पाया
रहा है अनसुना और अनकहा ही प्यार
का किस्सा
कभी तुम सुन नहीं पायी कभी मैं
कह नहीं पाया||3||

Bahut Toota Bahut Bikhara Thapede Sah Nahin
Paaya
Havaon Ke Ishaaron Par Magar Main Bah
Nahin Paaya
Raha Hai Anasuna Aur Anakaha Hee Pyaar
Ka Kissa
Kabhee Tum Sun Nahin Paayee Kabhee Main
Kah Nahin Paaya||3||

तुम्हारे पास हूँ लेकिन जो दूरी है
समझता हूँ
तुम्हारे बिन मेरी हस्ती अधूरी है
समझता हूँ
तुम्हे मैं भूल जाऊँगा ये मुमकिन है
नहीं लेकिन
तुम्ही को भूलना सबसे ज़रूरी है
समझता हूँ||4||

Tumhaare Paas Hoon Lekin Jo Dooree Hai
Samajhata Hoon
Tumhaare Bin Meree Hastee Adhooree Hai
Samajhata Hoon
Tumhe Main Bhool Jaoonga Ye Mumakin Hai
Nahin Lekin
Tumhee Ko Bhoolana Sabase Zarooree Hai
Samajhata Hoon||4||

kumar vishwas poem, kumar vishwas shayari

पनाहों में जो आया हो तो उस पर
वार करना क्या
जो दिल हारा हुआ हो उस पर फिर
अधिकार करना क्या
मुहब्बत का मज़ा तो डूबने की
कश्मकश में है
हो गर मालूम गहराई तो दरिया पार
करना क्या||5||

Panaahon Mein Jo Aaya Ho To Us Par
Vaar Karana Kya
Jo Dil Haara Hua Ho Us Par Phir
Adhikaar Karana Kya
Muhabbat Ka Maza To Doobane Kee
Kashmakash Mein Hai
Ho Gar Maaloom Gaharaee To Dariya Paar
Karana Kya||5||

समन्दर पीर का अन्दर है लेकिन रो
नहीं सकता
ये आँसू प्यार का मोती है इसको खो
नहीं सकता
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना
मगर सुन ले
जो मेरा हो नहीं पाया वो तेरा हो
नहीं सकता||6||

Samandar Peer Ka Andar Hai Lekin Ro
Nahin Sakata
Ye Aansoo Pyaar Ka Motee Hai Isako Kho
Nahin Sakata
Meree Chaahat Ko Dulhan Too Bana Lena
Magar Sun Le
Jo Mera Ho Nahin Paaya Vo Tera Ho
Nahin Sakata||6||

kumar vishwas Shayari in Hindi, kumar vishwas poems

पुकारे आँख में चढ़कर तो खू को खू
समझता है,
अँधेरा किसको को कहते हैं ये बस
जुगनू समझता है,
हमें तो चाँद तारों में भी तेरा रूप
दिखता है,
मोहब्बत में नुमाइश को अदाएं तू
समझता है||7||

Pukaare Aankh Mein Chadhakar To Khoo Ko Khoo
Samajhata Hai,
Andhera Kisako Ko Kahate Hain Ye Bas
Juganoo Samajhata Hai,
Hamen To Chaand Taaron Mein Bhee Tera Roop
Dikhata Hai,
Mohabbat Mein Numaish Ko Adaen Too
Samajhata Hai||7||

गिरेबां चाक करना क्या है, सीना और
मुश्किल है,
हर एक पल मुस्काराकर अश्क पीना
और मुश्किल है
हमारी बदनसीबी ने हमें इतना
सिखाया है,
किसी के इश्क में मरने से जीना और
मुश्किल है||8||

Girebaan Chaak Karana Kya Hai, Seena Aur
Mushkil Hai,
Har Ek Pal Muskaaraakar Ashk Peena
Aur Mushkil Hai
Hamaaree Badanaseebee Ne Hamen Itana
Sikhaaya Hai,
Kisee Ke Ishk Mein Marane Se Jeena Aur
Mushkil Hai||8||

kumar vishwas poetry, kumar vishwas poem and kumar vishwas shayari

मेरा अपना तजुर्बा है तुम्हें बतला रहा
हूँ मैं
कोई लब छू गया था तब अभी तक
गा रहा हूँ मैं
फिराके यार में कैसे जिया जाये बिना
तड़पे
जो मैं खुद ही नहीं समझा वही
समझा रहा हूँ मैं||9||

Mera Apana Tajurba Hai Tumhen Batala Raha
Hoon Main
Koee Lab Chhoo Gaya Tha Tab Abhee Tak
Ga Raha Hoon Main
Phiraake Yaar Mein Kaise Jiya Jaaye Bina
Tadape
Jo Main Khud Hee Nahin Samajha Vahee
Samajha Raha Hoon Main||9||

किसी पत्थर में मूरत है कोई पत्थर
की मूरत है
लो हमने देख ली दुनिया जो इतनी
ख़ूबसूरत है
ज़माना अपनी समझे पर मुझे अपनी
खबर ये है
तुम्हें मेरी जरूरत है मुझे तेरी
जरूरत है||10||

Kisee Patthar Mein Moorat Hai Koee Patthar
Kee Moorat Hai
Lo Hamane Dekh Lee Duniya Jo Itanee
Khoobasoorat Hai
Zamaana Apanee Samajhe Par Mujhe Apanee
Khabar Ye Hai
Tumhen Meree Jaroorat Hai Mujhe Teree
Jaroorat Hai||10||

READ MORE SHAYARI – Good Morning Shayari | Zindagi jeene ke do tareeke bana lo

Kumar Vishwas Shayari, poem and Kavita

kumar vishwas kavita and Kumar Vishwas Shayari in Hindi – 1

कभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो
पल तो हंगामा
कोई ख़्वाबों में आकर बस लिया दो
पल तो हंगामा
मैं उससे दूर था तो शोर था साजिश
है , साजिश है
उसे बाहों में खुलकर कस लिया दो
पल तो हंगामा

जब आता है जीवन में खयालातों
का हंगामा
ये जज्बातों, मुलाकातों हंसी रातों
का हंगामा
जवानी के क़यामत दौर में यह
सोचते हैं सब
ये हंगामे की रातें हैं या है रातों
का हंगामा

कलम को खून में खुद के डुबोता हूँ तो हंगामा
गिरेबां अपना आंसू में भिगोता हूँ
नही मुझ पर भी जो खुद की खबर
वो है जमाने पर
मैं हंसता हूँ तो हंगामा, मैं रोता हूँ
तो हंगामा

इबारत से गुनाहों तक की मंजिल में
है हंगामा
ज़रा-सी पी के आये बस तो महफ़िल में
है हंगामा
कभी बचपन, जवानी और बुढापे में
है हंगामा
जेहन में है कभी तो फिर कभी दिल में
है हंगामा

हुए पैदा तो धरती पर हुआ आबाद हंगामा
जवानी को हमारी कर गया बर्बाद हंगामा
हमारे भाल पर तकदीर ने ये लिख दिया जैसे
हमारे सामने है और हमारे बाद हंगामा

kumar vishwas kavita and Kumar Vishwas Shayari in English – 1

Kabhee Koee Jo Khulakar Hans Liya Do
Pal To Hangaama
Koee Khvaabon Mein Aakar Bas Liya Do
Pal To Hangaama
Main Usase Door Tha To Shor Tha Saajish
Hai , Saajish Hai
Use Baahon Mein Khulakar Kas Liya Do
Pal To Hangaama

Jab Aata Hai Jeevan Mein Khayaalaaton
Ka Hangaama
Ye Jajbaaton, Mulaakaaton Hansee Raaton
Ka Hangaama
Javaanee Ke Qayaamat Daur Mein Yah
Sochate Hain Sab
Ye Hangaame Kee Raaten Hain Ya Hai Raaton
Ka Hangaama

Kalam Ko Khoon Mein Khud Ke Dubota Hoon
To Hangaama
Girebaan Apana Aansoo Mein Bhigota Hoon
Nahee Mujh Par Bhee Jo Khud Kee Khabar
Vo Hai Jamaane Par
Main Hansata Hoon To Hangaama, Main Rota Hoon
To Hangaama

Ibaarat Se Gunaahon Tak Kee Manjil Mein
Hai Hangaama
Zara-See Pee Ke Aaye Bas To Mahafil Mein
Hai Hangaama
Kabhee Bachapan, Javaanee Aur Budhaape Mein
Hai Hangaama
Jehan Mein Hai Kabhee To Phir Kabhee Dil Mein
Hai Hangaama

Hue Paida To Dharatee Par Hua Aabaad Hangaama
Javaanee Ko Hamaaree Kar Gaya Barbaad Hangaama
Hamaare Bhaal Par Takadeer Ne Ye Likh Diya Jaise
Hamaare Saamane Hai Aur Hamaare Baad Hangaama

Kumar Vishwas Shayari, poem and Kavita

kumar vishwas kavita and Kumar Vishwas Shayari in Hindi – 2

मावस की काली रातों में दिल का
दरवाजा खुलता है,
जब दर्द की काली रातों में गम आंसू
के संग घुलता है,
जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट
अकेले होते हैं,
जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं,सब
सोते हैं, हम रोते हैं,
जब बार-बार दोहराने से सारी यादें
चुक जाती हैं,
जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की
नस दुःख जाती है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना
गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना
भी भारी लगता है।

जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़
सवाली होते हैं,
जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने
गाली होते हैं,
जब बासी फीकी धूप समेटे दिन
जल्दी ढल जता है,
जब सूरज का लश्कर छत से गलियों
में देर से जाता है,
जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन
ही मन घुट जाती है,
जब कालेज से घर लाने वाली पहली

जब बेमन से खाना खाने पर माँ
गुस्सा हो जाती है,
जब लाख मन करने पर भी पारो
पढ़ने आ जाती है,
जब अपना हर मनचाहा काम कोई
लाचारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना
गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना
भी भारी लगता है।

kumar vishwas kavita and Kumar Vishwas Shayari in English – 2

Maavas Kee Kaalee Raaton Mein Dil Ka
Daravaaja Khulata Hai,
Jab Dard Kee Kaalee Raaton Mein Gam Aansoo
Ke Sang Ghulata Hai,
Jab Pichhavaade Ke Kamare Mein Ham Nipat
Akele Hote Hain,
Jab Ghadiyaan Tik-Tik Chalatee Hain,Sab
Sote Hain, Ham Rote Hain,
Jab Baar-Baar Doharaane Se Saaree Yaaden
Chuk Jaatee Hain,
Jab Oonch-Neech Samajhaane Mein Maathe Kee
Nas Duhkh Jaatee Hai,
Tab Ek Pagalee Ladakee Ke Bin Jeena
Gaddaaree Lagata Hai,
Aur Us Pagalee Ladakee Ke Bin Marana
Bhee Bhaaree Lagata Hai.

Jab Pothe Khaalee Hote Hai, Jab Harf
Savaalee Hote Hain,
Jab Gazalen Raas Nahee Aatee, Afasaane
Gaalee Hote Hain,
Jab Baasee Pheekee Dhoop Samete Din
Jaldee Dhal Jata Hai,
Jab Sooraj Ka Lashkar Chhat Se Galiyon
Mein Der Se Jaata Hai,
Jab Jaldee Ghar Jaane Kee Ichchha Man
Hee Man Ghut Jaatee Hai,
Jab Kaalej Se Ghar Laane Vaalee Pahalee

Jab Beman Se Khaana Khaane Par Maan
Gussa Ho Jaatee Hai,
Jab Laakh Man Karane Par Bhee Paaro
Padhane Aa Jaatee Hai,
Jab Apana Har Manachaaha Kaam Koee
Laachaaree Lagata Hai,
Tab Ek Pagalee Ladakee Ke Bin Jeena
Gaddaaree Lagata Hai,
Aur Us Pagalee Ladakee Ke Bin Marana
Bhee Bhaaree Lagata Hai.

Kumar Vishwas Shayari, poem and Kavita

kumar vishwas kavita and Kumar Vishwas Shayari in Hindi – 3

मैं तुम्हें अधिकार दूँगा
एक अनसूंघे सुमन की गन्ध सा
मैं अपरिमित प्यार दूँगा
मैं तुम्हें अधिकार दूँगा
सत्य मेरे जानने का
गीत अपने मानने का
कुछ सजल भ्रम पालने का
मैं सबल आधार दूँगा
मैं तुम्हे अधिकार दूँगा
ईश को देती चुनौती,
वारती शत-स्वर्ण मोती
अर्चना की शुभ्र ज्योति
मैं तुम्हीं पर वार दूँगा
मैं तुम्हें अधिकार दूँगा
तुम कि ज्यों भागीरथी जल
सार जीवन का कोई पल
क्षीर सागर का कमल दल
क्या अनघ उपहार दूँगा
मै तुम्हें अधिकार दूँगा

kumar vishwas kavita and Kumar Vishwas Shayari in English – 3

Main Tumhen Adhikaar Doonga
Ek Anasoonghe Suman Kee Gandh Sa
Main Aparimit Pyaar Doonga
Main Tumhen Adhikaar Doonga
Saty Mere Jaanane Ka
Geet Apane Maanane Ka
Kuchh Sajal Bhram Paalane Ka
Main Sabal Aadhaar Doonga
Main Tumhe Adhikaar Doonga
Eesh Ko Detee Chunautee,
Vaaratee Shat-Svarn Motee
Archana Kee Shubhr Jyoti
Main Tumheen Par Vaar Doonga
Main Tumhen Adhikaar Doonga
Tum Ki Jyon Bhaageerathee Jal
Saar Jeevan Ka Koee Pal
Ksheer Saagar Ka Kamal Dal
Kya Anagh Upahaar Doonga
Mai Tumhen Adhikaar Doonga

READ MORE SHAYARI – 100+ Sad Shayari in Hindi, Dard shayari, bewafa shayari, sad status, Sms, Quotes, Image

MAY YOU LIKE THIS LYRICS – खैरियत Khairiyat Lyrics – Chhichhore | Arijit Singh | Sushant, Shraddha

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close